Mentha oil Farming…. की खेती तीन महीने में करे लाखों की कमाई इस मूल्य को बिकता है मेंथा ऑयल

Mentha oil Farming…. की खेती तीन महीने में करे लाखों की कमाई इस मूल्य को बिकता है मेंथा ऑयल

 

Mentha oil Farming मेंथा की फसल से अच्छे पैसे कैसे कमाए जैसा कि आप सभी जानते हैं भारत देश में 70% से अधिक लोग खेती करते हैं और आज के दौर में फसल उगाना घाटे का सौदा हो रहा है हम आपको बता देंगे यदि आप अपनी फसल से अच्छे दाम कमाना चाहते हैं तो आपको कौन सी खेती करनी होगी

यदि आप फसल द्वारा अच्छी पैदावार वह खेती से अच्छा पैसा कमाना चाहते हैं तो आपको पिपरमेंट यानी कि मेंथा खेती को आजमाना होगा यदि आप इस फसल को उगाना नहीं जानते हैं तो हम सभी किसान भाइयों को इस फसल के संपूर्ण जानकारी प्रदान कर आएंगे इस फसल को

Mentha oil Farming
                                                       Mentha oil Farming

आप गेहूं की कटाई के बाद भी अप्रैल में महंत एक्यूआईक कर सकते हैं इसे लगाने के लिए विधि मार्च के महीने की होती है इसे लगाने के लिए किन-किन दवाइयों व सभी प्रकार की सुझाव हम अपने इस आर्टिकल के माध्यम से सभी किसान भाइयों को प्राप्त कर आएंगे जिसके लिए आपको हमारा यह आर्टिकल अंत तक पढ़ना होगा

मेंथा की फसल 

सभी किसान भाइयों को हम बता दें कि भारत में अलग-अलग प्रकार की फसलें उगाई जाती है तरह-तरह की फसलों में से एक फसल मेथी की भी उगाई जाती है यह फसल उत्तर प्रदेश राज्य में अधिक मात्रा में इस फसल को उगाया जाता है इस फसल की पैदावार अच्छी होती है वैसे मुनाफा भी किसान भाइयों को अच्छा हो जाता है

यह फसल मात्र 4 माह की होती है इस फसल को सभी किसान भाई उगा कर अच्छे दामों में इसका ऑयल बेचते हैं जिसके माध्यम से किसान भाइयों को इस फसल के अच्छे दाम मिल जाते हैं यदि आप मैदा खेती की संपूर्ण जानकारी लेना चाहते हैं नीचे दिए गए हमारे लेख में इसक संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने वाले हैं

मेंथा की बुवाई कब की जाती है

किसान भाइयों को हम बताना चाहते हैं कि यदि किसान भाई मेथी की फसल लेना चाहते हैं और वह यह जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं कि मैंथा की फसल बुवाई कब की जाती है तो हम आपको यह बता दें कि मेंथे की फसल को 15 जनवरी से फरवरी के महा के बीच इस फसल को मेंथा जड़ के रूप में इसकी बुवाई की जाती है

किंतु हम आपको बता दें कि आप इसकी फसल को मेंथा पोद लगाकर बीज की बुवाई कर सकते हैं मेंथा की देर से मोबाइल करने पर उसे निकलने वाले तेल की मात्रा बहुत कम हो जाती है कम उपज मिलती है देर से मेंथा की फसल की बुवाई हेतु पौधों को नर्सरी में तैयार करके मार्च या अप्रैल में खेत में इसकी रोपाई की जाती है

मेंथा कौन सी प्रजाति का बोना चाहिए

अधिकतर किसान भाइयों की यह समस्या रहती है कि मेंथ की प्रजाति लगानी चाहिए जिससे कि अच्छी पैदावार हो सके और अच्छे दामों में इस फसल को तो हम आपको बता देगी मेंथे की प्रजाति में सिम कोशी और गोल्डन प्रजाति सबसे बेहतरीन में सबसे अच्छी किसम की प्रजाति मानी जाती है इसकी पैदावार प्रति हेक्टेयर 100 लेटेस्ट 200 लीटर किलोग्राम तक तेल प्राप्त किया जा सकता है यदि इसकी खेती को अच्छी तरीके से उगाया जाए तो यह फसल किसानों के लिए फायदे का सौदा साबित हुई है

मेंथा की फसल को ‌ किस  प्रकार द्वारा उगाया जा सकता है

आज समय को देखते हुए मेथी की फसल अच्छी साबित हो रही है मेंथ को दूसरे नाम पिपरमेंट दोबारा भी बुलाया जाता है इस फसल को कई वर्ष पहले अधिक मात्रा में उगाया जाता था किंतु कई कारणों की वजह से इस फसल को किसानों ने होगा ना कम कर दिया लेकिन आज के समय में यह फसल दोबारा से किसानों के खेतों में आ चुकी है

इस फसल से किसानों को अच्छी आमदनी हो जाती है मेंथा की फसल को किस प्रकार उगाया जाता है मानते की फसल को दो प्रकार से उगाया जाता है नंबर 1 मेथी की जड़ द्वारा और मेंथे की पौधा नर्सरी बना कर भी इसकी फसल को उगाया जा सकता है

मेंथा ऑयल किस मूल्य मैं बिकता है

जैसा कि आप सभी जानते हैं कि भारत के कई राज्यों में मेथे की फसल को कई राज्यों में अधिक मात्रा में उगाया जाता है मेंथे से निकलने वाले ऑयल को किस रेट में बेचा जाता है मेंथा तेल का मूल्य 1000 से 11100 रुपए लीटर मार्केट में बेचा जाता है इसकी पैदावार 150 से 200 लीटर प्रति हेक्टेयर की पैदावार से किया जाता है यह फसल 4 महीने की होती है और इस फसल में किसानों को आमदनी ज्यादा होती है इसीलिए यह फसल फिर से किसानों के खेत में आ चुकी है

मेंथा की अधिक पैदावार कैसे लें

सभी किसान भाइयों को हम बता दें कि यदि आप पिपरमेंट की फसल में रुचि रखते हैं तो आपको हमारा लेख ध्यान से जरूर पढ़ना आवश्यक है मैंने की अधिक पैदावार लेने के लिए आपको मेंथा बोते समय कई बातें ध्यान में रखनी होंगी मैदे की बुवाई करते समय आपको मानते की फसल को ज्यादा पानी से बचा कर रखना है क्योंकि अधिक पानी से यह फसल नष्ट हो जाती है इस की अधिक पैदावार लेने के लिए आपको कई प्रकार के उर्वरक दुकानों पर प्राप्त किए जाते हैं आप अपने असल में इन्हें डालकर अच्छी पैदावार ले सकते हैं

मेंथा खेती सबसे अधिक कहां की जाती है

मेंथा की खेती सबसे अधिक भारत के 1 राज्य उत्तर प्रदेश में इसकी फसल को अधिक मात्रा में उगाया जाता है क्योंकि यहां की मिट्टी इसके लिए अच्छी साबित होती है और इस फसल से किसानों को भी अच्छी आए हो जाती है मेरा मानना है कि यह फसल अधिक से अधिक किसान भाइयों को लगानी चाहिए यदि आप इस फसल को उगाना नहीं जानते हैं

तो आप सभी हमारे इस लेख को शुरू से आखिर तक जरूर पढ़ें जिससे कि आपको पता लग सके कि मैं ते की खेती को किस प्रकार उगाया जाता है वह मेंथा ऑयल किस मूल्य में मार्केट में बेचा जाता है इससे संबंधित सभी प्रकार की जानकारी हमारे सर्टिकन में दी गई है

मेथे का पौधे नर्सरी कैसे तैयार करें

यदि किसान भाई पिपरमेंट की नर्सरी को तैयार करना चाहते हैं तो हम आपको बता देगी इस की नर्सरी तैयार करने के लिए आप सभी को पिपरमेंट की जड़ को छोटे-छोटे टुकड़ों में काटकर एक समतल खेत में क्षार करके इसको बगैर पर पानी लगा दे जिसके बाद यह नर्सरी 20 से 25 दिनों के अंदर तैयार हो जाती है

इस नर्सरी को तैयार करने के बाद इन पौधों को खेती में 60 सेंटीमीटर चौड़ाई 1 फीट की लंबाई पर खेत में लगाएं क्योंकि यह पौधा कुछ समय में ही अपने ग्रोथ करने लग जाता है जिसके माध्यम से या पूरी विरोध करने के बाद इसके जड़ से अधिक पौधे तैयार हो जाते हैं और 203 महीने के अंदर ही यह पौधे बहुत घने हो जाते हैं

मेंथा फसल में मेंथा ऑयल को बढ़ाने का तरीका

पिपरमेंट की खेती तो अधिकतर किसान भाई करते ही हैं और यह भी जानते हैं कि पिपरमेंट की फसल में किस प्रकार से अधिक तेल निकाला जाए बेस्ट फसल में यह भी जुगाड़ लगाया जाता है कि किस प्रकार से अधिक मात्रा में तेल निकालने के लिए क्या करें तो हम आपको बता देगी मेंथा ओ एल अधिक निकालने के लिए

आप सभी को इस फसल को काटने से 15 दिन पहले पानी नहीं देना होगा और यह फसल को काटने के बाद एक से डेढ़ दिन के लिए खेत में ही सूखने के लिए डाल दें और इसके बाद इसे मेंथा ऑयल फैक्ट्री पर जाकर इसका तेल निकलवा ले ऐसा करने पर मेंथा ओ एल अधिक मात्रा में निकलता है

 

Leave a Comment